Friday, July 8, 2011

बात जब

बात जब फोन पर होती है |
कानों में रस घोलती है |
दिल में सीधे उतर जाती है |
बस वही जाकर बैठ जाती है |

No comments:

Post a Comment