Wednesday, July 6, 2011

कुछ तो होश

कुछ तो होश करो, जिन्दगी को मदहोश करो |
यूँ महफ़िल में खड़े हो, अब तो आगोश में लो |

No comments:

Post a Comment