Wednesday, July 6, 2011

निगाहें बोलती

निगाहें बोलती हैं, हर अंदाज़ खोलती हैं |
जुबाँ  से न बोलो, हर दिल-ए-राज़ खोलती हैं |

No comments:

Post a Comment