Friday, July 8, 2011

बरबस जिन्दगी

बरबस जिन्दगी गुज़र गयी |
बात क्यूँ मुँह से निकल गयी |
चीज़ यूँ हाथ से फिसल गयी |
इस तरह क्यूँ हमसे रूठ गयी |

No comments:

Post a Comment