Friday, July 8, 2011

क्यूँ इतने

क्यूँ इतने सख्त बने हो, कुछ तो दिल की बात सुनो |
क्यूँ इतने तन्हा बने हो, कुछ तो दिल की बात सुनो |

No comments:

Post a Comment