Wednesday, July 6, 2011

नूर-ए-नज़र

नूर-ए-नज़र, तेरी सिफाकत की जिन्दगी है |
उठा तो नज़र, तेरी हिमाकत की जिन्दगी है |
लगे न नज़र, मेरी हिफाज़त की जिन्दगी है |
उठे जो नज़र, मेरी हकीकत ही जिन्दगी है |


No comments:

Post a Comment