Thursday, July 7, 2011

हर फ़साने

हर फ़साने पर, ज़माने की मोहर लगती है |
जमाना जो कह दे, वही अफसाना लगती है |

No comments:

Post a Comment