Saturday, July 2, 2011

बड़ा बेजार

बड़ा बेजार किया, कितना इंतजार किया |
तुझसे प्यार किया, तुने न इज़हार किया |

No comments:

Post a Comment