Saturday, July 2, 2011

मुक्तलिफ़ सा

मुक्तलिफ़ सा वक्त था |
मुक्तलिफ़ सी जिन्दगी |
अरमाँ अभी बाकी थे |
जाँ अभी न निकली |

No comments:

Post a Comment