Friday, July 8, 2011

मोहब्बत की

मोहब्बत की बगावत बहुतों ने झेली है |
फूलों की जगह, खून की होती खेली है |

No comments:

Post a Comment