Wednesday, July 6, 2011

हुश्न की बेपर्दादारी

देख न यूँ हुश्न को, नज़र का लगा यूँ |
ये हुश्न की बेपर्दादारी है, देख न उसे यूँ |

No comments:

Post a Comment