Thursday, July 7, 2011

नफरत थी

नफरत थी मोहब्बत से, बहुतों को पिसते देखा है |
अब तुमसे मोहब्बत हुई है, खुद को पिसते देखा है |

No comments:

Post a Comment