Thursday, July 7, 2011

आरजुएं दिल

आरजुएं दिल में उभरती हैं |
तन्हाईयाँ रातो को भारती हैं |
सौदायीयाँ प्यार पर मरती हैं |
रोशनायीयाँ जीवन में करती हैं |

No comments:

Post a Comment