Thursday, July 7, 2011

हर वक्त

हर वक्त अपनी मोहब्बत का अफसाना सुनाता हूँ |
तेरी बेवफाई का नहीं, अपनी वफ़ा का गाना गाता हूँ |

No comments:

Post a Comment