Friday, July 8, 2011

न हाथ

न हाथ रख सर पर, न सोच इतना |
जो हो रहा है, उस पर भरोसा कर उतना |

No comments:

Post a Comment