Friday, July 8, 2011

सुलगता है

सुलगता है दिल, सुलगती हैं आखें |
बहकता है मन, बहकती हैं निगाहें |
तरसता है माजी, तरसती हैं राहें |
गुज़रता हैं राही, भरती है आहें |

No comments:

Post a Comment