Wednesday, July 6, 2011

जिन्दगी कट

यूँ तो जिन्दगी कट गयी |
मौत आनी अभी बाकी है |
यूँ तो जनाज़ा बांध गया |
जान जानी अभी की है |

No comments:

Post a Comment