Sunday, July 10, 2011

इश्क की

इश्क की गली, मजनुओं से भरी हैं |
लैला तू चली है, आस अभी लगी है |

No comments:

Post a Comment