Friday, July 8, 2011

यूँ न वक्त

यूँ न वक्त गुजारना था |
जिन्दगी को तो जी भरकर जी लेना था |
आरजू तो सब पूरी कर लेनी थी |
मोहब्बत तो थोड़ी कर लेनी थी |

No comments:

Post a Comment