Wednesday, July 6, 2011

तेरे खड़े

तेरे खड़े होने का अंदाज़, तेरे मुस्कुरानें का अंदाज़ |
तेरे देखने का अंदाज़, तेरे हाथ पकड़ने का अंदाज़ |
तेरे बात करने का अंदाज़, तेरे चलने का अंदाज़ |
गर गौर करके देखो, तेरे अंदाज़ बदलने का अंदाज़ |

No comments:

Post a Comment