Thursday, July 7, 2011

है मुअज्जम

है मुअज्जम का फ़साना |
जिन्दगी का इतना तराना |
मौत का आगोश में सलाना |
याद रखेगा यह ज़माना |

No comments:

Post a Comment