Thursday, July 7, 2011

बात आज

बात आज एक अजीब हो गयी |
एक हुश्न परि मुझसे टकरा गयी |
सहम गयी, शरमा गयी |
और फिर आखों से ओझल हो गयी |

No comments:

Post a Comment