Friday, July 8, 2011

खुदा बचाए

खुदा बचाए इस सौतनों की डाह से |
नज़र रखती हैं ये, किसी की आह से |
खुदाबंद इन्हें सजा न दे |
दे दे कोई और पर मेरा न दे |

No comments:

Post a Comment