Friday, July 8, 2011

पता उसका

पता उसका लगा लिया, जिसे देखा था राह पर अभी |
दिल में उसे बसा लिया, जिसे देखा था राह पर अभी |
रोज़ गुजरती है, इसी राह से |
आखें तरसती है, इसे आह से |
फ़ना सी खूबसूरत है |
बसा ले हर कोई, ऐसी मूरत है |

No comments:

Post a Comment