Friday, July 8, 2011

दीगर जमाना

दीगर जमाना था, दर्द का फ़साना था |
देखा तुम्हे जबसे, दिल ये दीवाना था |

No comments:

Post a Comment