Friday, July 8, 2011

जब तेरी

जब तेरी डोली उठी, तब मेरा जनाज़ा निकला |
राह में मुलाकात हुई, तकाजा वक्त का निकला |

No comments:

Post a Comment