Friday, July 8, 2011

जिस्म में

जिस्म में रूह रहती है |
बात वो कुछ कहती है |
बहुत सुर में बहती है |
बात वो बहुत सहती है |

No comments:

Post a Comment