Wednesday, November 16, 2011

तारीफ़-ए-नज़र

तारीफ़-ए-नज़र ये तेरी नज़र कुछ इशारा, उधर कर रही है,
देख किसी के बहाने किसी और को नज़र इशारा कर रही है,

.

No comments:

Post a Comment