Saturday, November 12, 2011

शुक्र है उस

शुक्र है उस वक्त का जो बीतते-बीतते बीत गया,
अब भी तन्हाई में न जाने कितनी रौशनी दे गया,


.

No comments:

Post a Comment