Wednesday, November 2, 2011

तुम से हुबहु

तुम से हुबहु तो मिले, पर कुछ कह न सके,
न जाने ओंठ क्यूँ चुप रहे, कुछ कह न सके,

.

No comments:

Post a Comment