Saturday, November 12, 2011

आँखें कह रही

आँखें कह रही हैं, इकरार को,
ओंठ कह रहे हैं, इनकार को,
क्या समझे तेरे प्यार को,
दिल में ही रहने दूं इशरार को,


.

No comments:

Post a Comment