Friday, November 11, 2011

वो शुबः कर

वो शुबः कर बैठे, क्या ये बात हम उनके लिए कह बैठे,
सोचने लग गए, क्या कोई न कहने वाली बात कह बैठे,

.

No comments:

Post a Comment