Thursday, November 24, 2011

हम आपकी तन्हाईओं

हम आपकी तन्हाईओं में आपका साथ न दे सके,
अपनी तन्हाईओं से फुर्सत जो न पा सके,
कैसे कहें की रुशवाईओं को गम-ए-बेजार का जाते,
हम रोते और आपको किसी तरह हंसा जाते,


.

No comments:

Post a Comment