Tuesday, November 22, 2011

वो राज़-ए-जेहर

वो राज़-ए-जेहर न रख पाया, मेरी बात सारे जहाँ से कह आया,
राज तो उसको दिल का बतलाया, दिल में उसके न समां पाया,

.

No comments:

Post a Comment