Saturday, November 12, 2011

कितना दर गुज़रा

कितना दर गुज़रा उसके दिल से,
तब तो वह शायर बना होता,
न गुज़रा होता ग़मों की गलियों से,
तो शायद कायर बना होता,

.

No comments:

Post a Comment