Saturday, November 12, 2011

तेरे नैनों

तेरे नैनों की बोली समझकर, तेरा इंतज़ार न किया,
डोली अपनी सजाई, प्यार न तुझसे किया,

.

No comments:

Post a Comment