Wednesday, November 16, 2011

इस शायर को

चंद्रमुखी चौटाला -

इस शायर को कुछ और न समझ लेना,
वो खुदा की इबादत करता है, उसे अपना न समझ लेना,

उसकी शायरी बनते-बनते बन जाती है,
इबादत गहरी होती जाती है, शायरी खुद-ब-खुद उतरती आती है,

जज्बातों को उसने दिल ही दिल में समेट लिया है,
बस चन्द लफ़्ज़ों में बयाँ जज्बातों को कर दिया है,

मंजिल-ए-आखिर उसकी कहीं और है,
आपकी अदाकारी में खुदा की डोर है,

जिन्दगी के हालात से दूर, अपनी जिन्दगी में ही रहता है,
तन्हाई में खुदा में खोया रहता है,

.

No comments:

Post a Comment