Friday, April 22, 2011

गुल नहीं

गुल नहीं खिला तो कलि का क्या कसूर है |
रुत नहीं आयी तो मौसम का क्या कसूर है |

No comments:

Post a Comment