Friday, April 22, 2011

जज्बातों से

जज्बातों से खेला हूँ उसके पता नहीं उसका क्या हाल है ?
भूल चुका हूँ उसको पता नहीं फिर भी दिल क्यों बेहाल है ?
कुरेदती हैं यादें उसकी इस तरह दिल की चाल को |
समझ नहीं पाता हूँ अपने इस दिल के हाल को |

No comments:

Post a Comment