Saturday, April 23, 2011

रहबरे रक्स

रहबरे रक्स की नुमाइश न कर |
मोहब्बते इश्क में मिटकर |
क्यूँकर तनहा हुई है इस तरह |
साफे फक्श में रूबरू इस तरह |

No comments:

Post a Comment