Wednesday, April 20, 2011

साफ़ जिन्दगी

तू है पाक साफ़, जिन्दगी का यह अरमा लिए घूमती है |
तू है अपना हुश्न लिए, सरे बाज़ार शरमा लिए घूमती है |
 
.



No comments:

Post a Comment