Sunday, April 17, 2011

इन्तहां इतनी

इश्क की इन्तहां इतनी न होती तो शायद हर कोई इश्क कर लेता |
इश्क का मज़मून तो पहले समझ तो शायद हर कोई इश्क कर लेता |

No comments:

Post a Comment