Thursday, April 21, 2011

रबे दिल

रबे दिल का अरमान मैं रोक न पाया |
तुझसे प्यार किया प्यार का इज़हार रोक न पाया |
इनकार तेरा आया मैं सहन कर न पाया |
दहलीज़ पर खड़ा तेरी दुबारा इज़हार करने आया |

No comments:

Post a Comment