Thursday, April 21, 2011

नस्तर न

नस्तर न चला दिल पर मेरे, रहम कर तो जरा |
दिल की रोशनाई से, लिख रहा हूँ मुक्कदस तेरा |

No comments:

Post a Comment