Wednesday, April 20, 2011

नज्मदार

नज़्म मैं क्या सुनाऊँ, कोई नजम्दार मिलता नहीं |
बज़्म मैं क्या बजाऊँ, कोई बज़म्दार मिलता नहीं |

.



No comments:

Post a Comment