Sunday, April 10, 2011

कितनी मासूम

कितनी मासूम हो तुम यह तुम्हे पता नहीं हैं
इन नज़रों की सफाकत का इन ओंठों की नजाकत का तुम्हे पता नहीं है |

No comments:

Post a Comment