Monday, April 18, 2011

तेरी सफ्श

तेरी सफ्श रौशनी में नहाया हुआ मंजर है यह |
आखों को सुकून दे कर दिल में उतर गया है यह |

No comments:

Post a Comment