Wednesday, June 29, 2011

यूँ जबाँ

यूँ जबाँ खुलती नहीं, हमेशा तेरे सामने |
पर आज आलम कुछ और, तू है मेरे सामने |

No comments:

Post a Comment