Wednesday, June 29, 2011

ग़ज़ल पेश

ग़ज़ल पेश करने का, तेरा अन्दाज़ भा गया |
तेरी आवाज़ का, एक-एक लफ्ज़ समां गया |

No comments:

Post a Comment