Thursday, June 30, 2011

आ मौज

बरबस ये हुश्न है, ये जवानी है |
तू ताकीद न कर, ये रवानी है |
फ़क्त दिल में उतरी, दीवानी है |
आ मौज कर ले, मस्तानी है |

No comments:

Post a Comment